Home Story

The story of Stingy Karodimal Seth for kids: kaise hoga


kanjoos seth ki kahani for kids.

एक गांव में करोड़ीमल रहता था वह बहुत ही कंजूस था उसकी कंजूसी का जितना बढ़ाई करें उतना कम होगा 

एक दिन वह कहीं दूर से आ रहा था उसने देखा नदी के किनारे एक खजूर का पेड़ था और पके हुए खजूर को 

देखकर अपने आप को रोक नहीं पाया|


उसने कहा क्यों ना मैं इस खजूर को खा लूं और घर भी लेकर जाऊं यह सोचकर खजूर के पेड़ के ऊपर चढ़ने 

लगा जब खजूर के पेड़ के ऊपर चढ़ गया तो उसने जब खजूर को तोड़ लिया थोड़ा सा तब नीचे देखा तो वह

बिल्कुल डर गया कि मैं कितनी ऊंचाई पर आ गया हूं यह बात सोच कर उसने भगवान श्रीराम को याद किया 

और बोला है|


भगवान अगर मैं नीचे उतर जाऊंगा तो 1001 ब्राह्मणों को भोजन करा आऊंगा और वह अपनी आंखें बंद कर

कर धीरे-धीरे नीचे उतरने लगा तभी थोड़ी दूर पर आया तो उसने कहा मैंने लग रहा है डर में कुछ ज्यादा ही 

बोल दिया फिर उसने श्रीराम को याद करते हुए बोला मैं 501 ब्राह्मणों को ही भोजन कर आऊंगा और अपनी 

आंख बंद करके नीचे उतरने लगा फिर



थोड़ी दूर पर आया तो उसने कहा कि 501 ब्राह्मणों को भोजन कराने से बढ़िया 101 ब्राह्मणों का ही भोजन कराते 

हैं इस तरीके से जमीन पर उतर गया तभी उसने श्रीराम को याद किया और बोला अब 1001 ब्राह्मणों को भोजन 

कर रहा हूं या एक ब्राह्मण को भोजन कराएं बात तो एक ही है और वह यह कह कर अपने घर चला आया और 

अपनी वाइफ को यह सारी बातें बताया की एक ब्राह्मण को भोजन कराना है |


तुम जल्दी से तैयारियां कर लो तभी वहां से ब्राह्मण गुजर रहा था


वह आकर अपना लिस्ट पकड़ा गया कि मैं यह यह खाना खाऊंगा उसके हिसाब से उसकी पत्नी ने खाना को 

तैयार कर दीया और ब्राह्मण लंच के लिए उसके घर पर पहुंच गया वह वहां पर चटाई पर बैठकर केले का पत्ता 

निकाल कर उस पर भगवान के नाम पर सारे चीजों को थोड़ा थोड़ा चढ़ा दिया और फिर बोला किस पूजा को 

संपन्न करने के लिए एक सोने का सिक्का चाहिए उसकी पत्नी ने एक सोने का सिक्का दे दिया तभी वह भोजन 

करने लगा और भोजन करने केबाद बोला कि जब तक तुम मुझे दक्षिणा नहीं दोगे यह पूजा संपन्न नहीं होगा तो 

एक सोने का सिक्का उसकी पत्नी ने और दे दिया और यह लेकर ब्राह्मण ने सोचा मैं इसके पत्नी को बेवकूफ बना 

दिया हूं हो सके 


करोड़ीमल मुझे खोजते खोजते मेरे घर पर जरूर आएगा उसने अपने पत्नी के कानों में फुसफुस आकर कहा 

तभी वहां पर करोड़ीमल पहुंच गया वहां पर करोड़ीमल देखा कि उसकी पत्नी जोर जोर से रो रही है 


और करोड़ीमल को देखते ही उसका कॉलर पकड़ ली और


कहने लगी तुमने मेरे पति को क्या खिला दिया है मेरा पति जब से वहां से खाकर आया है तब से सोया हुआ है 

वह होश में नहीं आ रहा है यह बात सुनकर करोड़ीमल डर गया और बोला कि कोई बात नहीं तुम मेरे घर पर 

चलो मैं तुम्हें 10 और सोने के सिक्के दे देता हूं उससे अपने पति का इलाज करा लो और फिर से एक बार

श्री राम के सामने खड़ा होकर बोला हे भगवान इस ब्राह्मण का तबीयत सही कर दो मैं 1001 ब्राह्मणों को भोजन 

कर आऊंगा |

अधिक जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

to Top